नवसारी : गीजर रिपेयर करने आने वाला युवक ने खुद की फीस रुपये 300 की मांग को संतोष नही होने के चलते नवसारी के जमालपुर में रहने वाली शीतल देसाई की बेरहमी से हत्या कर देने का सनसनीखेज खुलासा नवसारी पुलिस ने किया । लोगो को विश्वास नही होगा ।लेकिन नवसारी पुलिस की कार्यवाही में आखिर पुलिस को तब सफलता मिली जब पुलिस ने शीतल हत्या केश में शीतल के घर के सामने कामवाली टीना राठौड़ का निवेदन लेने के बाद आखिर में हत्यारे तक पुलिस पहुँच ही गई ।

 

गिजर रिपेयर करने वाल व्यक्ति को 200 रुपये चुकाने के बाद भी उसने 300 की मांग की थी ।

जिल्ला पुलिस एम. यस. भराड़ा ने शीतल हत्या केश का खुलासा किया था । 12 जुलाई 2017 को गिजर रिपेयर करने के लिए नानी चौवीसी में स्वामिनारायण मंदिर के पीछे का भाग में रहने वाले जयेश बाबू भाई हड़पति कबिलपुर में गैस गिजर रिपेरिंग करने वाला दिनेश की दुकान से शीतल के घर गया था । उस समय सुबह 11 बजे शीतल घर नही पहुची थी । उस दरमियान शीतल सब से पहले बाथरूम का नल खराब होने की बात बताई । उसके उसने नल रिपेरिंग किया । उसके बाद शीतल बेन ने पहले मंजिले पर बारिश का पानी से जंतु नही हो के से पाइप लाइन रिपेयर के लिए कहा था । प्लम्बर ने उस काम के लिए 400 रुपये की मांग की थी ।

तकिया से मुँह को दबाकर की थी हत्या

शीतल ने प्लम्बर को 200 रुपये दे रही थी, लेकिन प्लम्बर ने ऊपर के 300 रुपये की मांग को लेकर जिद्द कर रहा था । प्लम्बर ने बीमारी का बहाना कर के रुपये की मांग कर रहा था । शीतल पैसा देने से इनकार करने के बाद शीतल के पीछे पीछे वह बेड रूम तक पहुच गया था । लेकिन शीतल पैसा देने से मना करने के बाद वह आग बबूला होकर जयेश हड़पति ने शीतल को पीछे से धक्का मार दिया । जिसकी वजह से शीतल बेन बेड पर गिर गई थी । शीतल को बेड का किनारा हिस्सा आंख पर लगने के कारण शीतल को चोट लग गई थी । उसके बाद जोर जोर से चिल्लाने लगी । उसको रोकने के लिए जयेश हड़पति ने बेड रूम में पड़े तकिए को लेकर शीतल के मुंह को दबा दिया था ।

बेहोश होने के बाद लेपटॉप के वायर से गले को दबाकर कर दी हत्या ।

शीतल बेहोश हो गई थी । जबकि शीतल का सांस चल रही थी । जिसकी वजह से जयेश हड़पति नजदीक में जो लेपटॉप का वायर लेकर एक वायर से गले मे फंसा कर मौत की घाट उतार दिया था । जबकि दूसरे वायर से पंखे में बांध दिया था । उसके बाद शीतल का सांस नही टूटने की वजह से जयेश ने चाकू और टूटी हुई कैची से कई वार कर हत्या कर दी थी । उस दौरान कामवाली बाई आने की आवाज सुनकर वह बेड रूम से बाहर निकल गया था । और जाते जाते शीतल के पर्स से 1000 से 1200 रुपये चोरी कर के अगले दरवाजे से बाहर निकल कर बाइक पर बैठ कर फरार हो गया था । जबकि पुलिस निवेदन के आधार पर हत्यारे तक पहुँची थी । जिसको लेकर शीतल की हत्या का भेद खुल गया । गौरतलब है कि पुलिस को अभी तक शीतल का मोबाइल बरामद नही कर पाई है ।