नई दिल्ली : नोटबंदी के एक साल पूरा होने पर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार पर जमकर हमला किया. उन्होंने कहा कि नोटबंदी मोदी सरकार की बड़ी भूल है.

नोट बंदी एक साल पूरा होने पर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने मोदी सरकार पर जमकर हमला किया. उन्होंने कहा कि नोटबंदी मोदी सरकार की बड़ी भूल है. आपको बता दें कि गुजरात विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के प्रचार को मजबूती देने के लिए पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह मंगलवार को अहमदाबाद पहुंचे हैं और यहां वे माल एवं सेवा कर (जीएसटी) तथा अन्य मुद्दों पर छोटे कारोबारियों को संबोधित कर रहे हैं. कार्यक्रम में मौजूद लोगों को संबोधित करते हुए मनमोहन सिंह ने कहा कि जीएसटी छोटे कारोबारियों के लिए बुरे सपने की तरह साबित हुई है. आम लोगों को इससे काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि सरकार ने नोटबंदी का जो मकसद बताया वह पूरा नहीं हुआ. कालेधन वालों को पकड़ा नहीं जा सका है.

मनमोहन सिंह ने कहा कि आज भारत में युवाओं को नौकरी देने के लिए चीन से सामान आयात करवाना पड़ रहा है. उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने गरीबों के लिए लड़ने की बात कही थी. उन्होंने बताया कि 2016-17 के पहले हाफ में चीन से 1.96 लाख करोड़ का आयात हुआ था, लेकिन 2017-18 तक ये 2.14 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया.

मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी पर सीधा वार करते हुए कहा कि नोटबंदी के फैसले को लोगों पर थोपा गया था. जब नोटबंदी का ऐलान हुआ तो ये सुनते ही मुझे झटका लगा था. क्या जीडीपी और नोटबंदी पर सवाल करने वाला एंटी नेशनल हो जाता है. नोटबंदी एक तरह की संगठित लूट थी.

पूर्व पीएम मनमोहन ने कहा कि क्या प्रधानमंत्री ने मौजूदा रेलवे ट्रैक्स को अपग्रेड कर हाई स्पीड ट्रेन जैसे विकल्पों पर विचार किया था ? बुलेट ट्रेन प्रॉजेक्ट पर निशाना साधते हुए उन्होंने कहा कि  ‘गुरूर के चलते लिया गया बुलेट ट्रेन प्रॉजेक्ट का फैसला. क्या बुलेट ट्रेन पर सवाल उठाने से कोई विकास विरोधी हो जाता है ? या जीएसटी-नोटबंदी पर सवाल उठाने से कोई टैक्स चोर हो जाता है ?