New Delhi: साल के आखिरी दिन 31 दिसंबर 2017 को सेना के कैंप पर बड़ा आतंकी हमला किया गया। इस हमले के बाद सेना ने तुरंत जवाबी कार्रवाई शुरू कर दी। हमले में 2 जवान शहीद हो गए, वहीं 2 जवान के घायल होने की खबर आ रही है।

नए साल से एक दिन पहले पाक ने नापाक चाल चली। जम्मू कश्मीर के लैथापोरा CRPF ट्रे‍निंग कैंप पर आतंकी हमला हुआ है। सेना और आतंकियों के बीच मुठभेड़ जारी है। आतंकी संगठन जैश ए मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली। बता दें कि 3 आतंकी कैंप में घुस गए और सुरक्षाबलों को घेर लिया। हमला रात 2 बजकर 10 मिनट पर हुआ। इस हमला के बाद NH बंद कर दिया गया है।

एएनआई के मुताबिक 3 आतंकी साउथ कश्मीर के अवंतीपोरा, पुलवामा स्थ‍ित कैंप में घुसे हैं। आतंकियों ने पहले ग्रेनेड से हमला किया। उसके बाद लगातार फायरिंग शुरू कर दी। मीडिया को वट्सऐप मेसेज भेजकर जैश ए मोहम्मद ने हमले की जिम्मेदारी ली। आतंकी संगठन का कहना है कि यह फिदायिन हमला उनके आतंकी कमांडर नूर त्राली की मौत का बदला लेने के लिए किया गया है। बता दें कि मुठभेड़ अभी जारी है।

सीआरपीएफ ने बयान जारी कर कहा कि फिदायिन हमलावरों ने लैथापोरा कैंप पर हमला किया। शुहमला जम्मू कश्मीर पुलिस कमांडो ट्रेनिंग एरिया की तरफ से हुआ। सीआरपीएफ ने यह भी बताया कि इस बात की पूरी आशंका है कि दूसरे कैंपों में भी इस तरह के हमले हो सकते हैं।