यूटिलिटी डेस्क। बिना परमिशन के पुलिस आपके घर में नहीं घुस सकती। यदि पुलिस घर में आ रही है तो आप आप पुलिस से वारंट दिखाने की मांग कर सकते हैं। हालांकि, ऐसी परिस्थितियां भी हैं, जिनमें पुलिस को घर में आकर जांच का अधिकार है। पुलिस का ऐसा लगता है कि कोई ऐसी चीज है जिसका प्रमाण के तौर पर उपयोग किया जा सकता है तो वे जांच कर सकते हैं। इसी तरह यदि कोई क्रिमिनल आप घर में छुप कर बैठा है, तब भी पुलिस बिना वारंट के घर की तलाशी ले सकती है।

 

नॉन इमरजेंसी केस में दिखाना होगा वारंट
नॉन इमरजेंसी जैसी परिस्थितियां हैं तो पुलिस को पहले वारंट दिखाना होगा। जैसे किसी पर गैरकानूनी गतिविधियों में लिप्त होने का आरोप है, कुछ सामान चुराने का आरोप है, घर में अवैध हथियार रखने जैसे आरोप हैं तो उन्हें पहले मजिस्ट्रेट का वारंट दिखाना होगा। इसके बाद ही पुलिस घर में एंटर हो सकती है। किसी केस से रिलेटेड पूछताछ करनी है तो पुलिस आपके बुलाने पर ही घर में आ सकती है।

 

अरेस्ट करे तो आप साइलेंट रह सकते हैं
पुलिस कभी आपको अरेस्ट करती है तो आप साइलेंट रह सकते हैं। आप सिर्फ पुलिस को अपना नाम और बेसिक इन्फॉर्मेशन दे दें। बाकी किसी भी बात के लिए आप लॉयर हायर कर सकते हैं। पुलिस आप से जबरन पूछताछ करे तो आप कह सकते हैं कि मैं अपने लॉयर से बात करना चाहता हूं। इसके बाद पुलिस आप से सवाल करना बंद कर देगी। अरेस्ट होने पर आप अपने रिश्तेदार, लॉयर को कॉल कर सकते हैं। यदि आपके बच्चे 18 साल से कम उम्र के हैं तो आप उनकी सुरक्षा इंतजाम के लिए भी कॉल कर सकते हैं। आज हम पुलिस से जुड़े कुछ ऐसे ही नियम आपको बताने जा रहे हैं, जो आपके काम आएंगे।