मुंबई.   बीजेपी सांसद और एक्टर शत्रुघ्न सिन्हा के बंगले ‘रामायण’ में अवैध निर्माण के खिलाफ बीएमसी ने कार्रवाई की। मुंबई के जुहू इलाके में सिन्हा का 8 मंजिला घर है। आरोप है कि यहां छत और ग्राउंड फ्लोर पर उन्होंने बिना इजाजत टॉयलेट और पूजा घर बनवाया था। इसके लिए नगर निगम ने उन्हें दो बार नोटिस जारी किया था, लेकिन जब कोई जवाब नहीं मिला तो बीएमसी के दस्ते ने सोमवार को अवैध हिस्से को गिरा दिया। शत्रुघ्न, बेटी सोनाक्षी समेत पूरी फैमिली यहां रहती है। कार्रवाई के दौरान सिन्हा बंगले में मौजूद थे।

2 बार नोटिस जारी किया गया शत्रुघ्न सिन्हा

जुहू के जेवीपीडी स्कीम में 5 नंबर रोड़ पर शत्रुघ्न सिन्हा का बंगला है। यहां के एक फ्लोर पर अवैध तरीके से टाॅयलेट्स, पैन्ट्री और खुली जगह पर ऑफिस बना था।

इसके साथ ही बीएमसी से इजाजत लिए बगैर गैलरी में सीढ़ियां बनाई गईं। बंगले के सभी फ्लोर के ‘डक्ट’ एरिया में अतिक्रमण किया गया।

बीएमसी ऑफिस ने ‘एमआरटीपी’ कानून की धारा 53 (1) तहत नोटिस 5 दिसंबर 2017 और 6 जनवरी को नोटिस जारी किया था। इसके बाद भी अवैध निर्माण हटाया नहीं गया। इसके बाद सोमवार सुबह से रात तक दस्ते ने बंगले में कार्रवाई की।

 

अवैध हिस्सा गिराए जाने पर सिन्हा ने क्या कहा?

शत्रुघ्न सिन्हा ने कहा कि बंगले में मामूली गड़बड़ियां थीं और उन्होंने बीएमसी स्टाफ से इसे हटाने की बात कही थी। सरकार टॉयलेट बनाने को बढ़ावा दे रही थी इसलिए बिल्डिंग में काम करने वाले लोगों के लिए छत पर टाॅयलेट बनवाया था। बीएमसी की कार्रवाई को लेकर हमें कोई आपत्ति नहीं है। पूजा घर को फिलहाल अस्थाई रूप से शिफ्ट किया है।

आरोप है कि शत्रुघ्न सिन्हा ने बंगले की छत और ग्राउंड फ्लोर पर अवैध निर्माण कराया था।

बीएमसी के दस्ते ने सोमवार को अवैध निर्माण के खिलाफ कार्रवाई शुरू की, जो देर रात तक चली।