कानपुरः उत्तर प्रदेश की औद्योगिक राजधानी माने जाने वाले कानपुर में 96 करोड़ रुपये के पुराने नोट बरामद हुए हैं। इस सिलसिले में कुछ बड़े कारोबारियों समेत 16 लोगों को हिरासत में लिया गया है।

पुलिस अधीक्षक (पूर्वी) अनुराग आर्य ने आज यहां बताया कि पुलिस की अपराध शाखा ने स्वरुपनगर, गुमटी, जनरलगंज और अस्सी फिट रोड स्थित व्यापारियों के प्रतिष्ठानों पर ताबडतोड़ छापा मारकर बंद हो चुके 1000 और 500 नोटों की लगभग 96 करोड़ की करंसी बरामद की गई। इस सिलसिले में 16 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है।

आर्य ने आशंका जताई कि इन नोटों को हवाला के जरिये या अन्य माध्यमों से औने-पोने दामों में बदलने की योजना थी। उनका कहना था कि पहले मोहित और संतोष नामक दो लोगों को पकड़ा गया।

उनसे हुई पूछताछ के आधार पर बिल्डर एवं कपड़ा कारोबारी आनंद खत्री, मोहित के अलावा प्रोफेसर संतोष समेत 16 लोगों हिरासत में लिया गया है। उन्होंने दावा किया कि कारोबारी आनंद खत्री के यहां से सबसे अधिक पुराने नोट बरामद किए गए हैं।

पकडे गये लोगों में हैदराबाद के भी दो व्यक्ति शामिल हैं। कानपुर में नोट बंदी के बाद अब तक की सबसे पुराने नोट बरामद किए गये हैं। उन्होंने बताया कि छापे के दौरान उनके अलावा पुलिस अधीक्षक (पश्चिमी) डा0 गौरव ग्रोवर और अन्य अधिकारी शामिल थे। छापे में मिले पुराने नोट की गिनती का काम अभी जारी है। पकड़े गये लोगों से सघन पूछताछ जारी है।