उत्तर प्रदेश में इन दिनों मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षाओं की कॉपियों की चेकिंग (मूल्यांकन) हो रही है. इन कॉपियों छात्र-छात्राओं ने प्रश्नों के उत्तर लिखने के साथ कई ऐसी बातें लिखी है जो बेहद चौंकाने वाले हैं. इन कॉपियों में छात्र-छात्राओं की ओर से लिखी गई बातें आज के समाज और परिवार में युवाओं के हालात को भी बयां कर रहे हैं. इन कॉपियों में लिखी गई बातों को हाल ही में नोएडा की छात्रा इकिशा की खुदकुशी की घटना से भी जोड़कर देखा जा सकता है. दरअसल, परीक्षा की कॉपी में छात्र-छात्राओं की ओर से लिखी गई बातें बयां कर रही हैं कि उनके अंदर परीक्षा को लेकर कितना दबाव है. साथ ही ये भी साबित कर रही हैं कि मां-पिता अपने बच्चों पर परीक्षा में अच्छे अंक लाने के लिए किस कदर मानसिक दबाव बनाए हुए हैं ।

परीक्षा में फेल होने से इकिशा काफी अपसेट थी और अंदर ही अंदर डिप्रेशन में पहुंच चुकी थी. वह अपनी कॉपी के पिछले पन्ने पर अपनी भावनाएं लिखा करती थी, लेकिन उसके जीवित रहने तक किसी का उसपर ध्यान ही नहीं गया. मैट्रिक और इंटरमीडिएट की परीक्षा की कॉपियों में लिखी गई बातें भी इकिशा जैसे छात्र-छात्राओं की भावनाए हैं ।

एक कॉपी में छात्र या छात्रा ने लिख रखा है, ‘सर पास कर देना, मेरी मां नहीं है, मेरे पापा मुझे मार डालेंगे.’ ये लाइन शायद बयां कर रही हैं कि इस छात्र या छात्रा पर पिता का दबाव है. शायद वह अपने पिता की मर्जी के खिलाफ जाकर पढ़ाई कर रही है, या फिर बमुश्किल पिता उसके पढ़ाई का खर्च उठा पा रहे हैं.

एक अन्य कॉपी में लिखा है, ‘गुरुजी को नमस्कार, कृपया पास कर दें ।
कुछ कॉपियों में परिक्षार्थियों ने पैसे रख दिए हैं. शायद उन्हें उम्मीद है कि शिक्षक पैसे लेकर उसे पास कर देंगे. बड़ा सवाल यह है कि किसी बच्चे के मन में यह सवाल कहां से आया कि शिक्षक पैसे लेकर पास कर देते हैं.

कुछ कॉपियों में परिक्षार्थियों ने शरारत भी की हैं. जी न्यूज के हाथ लगी एक कॉपी में छात्र ने अपनी लव स्टोरी लिख दी है ।

एक कॉपी में छात्र ने खुद को गरीब बताया है और कहा है कि वह बड़ी मुश्किल से अपनी पढ़ाई कर पा रहा है. ये सारी कॉपियां जनपद मुजफ्फरनगर में चेकिंग के लिए आई हैं. माध्यमिक शिक्षा परिषद ने बोर्ड की उत्तर पुस्तिकाओं के मूल्यांकन के लिए इस जिले में 4 सेंटर बनाए गए हैं, जिसमें पहला सेंटर राजकीय इंटर कॉलेज दूसरा डीएवी इंटर कॉलेज और तीसरा इस्लामिया इंटर कॉलेज चौथा ग्रेन चेंबर इंटर कॉलेज है. मुजफ्फरनगर में बोर्ड की उत्तर पुस्तिकाओं के जांचने का काम जोरों पर चल रहा है. अब इन सेंटरों में से राजकीय इंटर कॉलेज में कुछ ऐसी उत्तर पुस्तिका निकल रही है जो परीक्षार्थियों के गैरजिम्मेदार होने का सबूत दे रही हैं ।