भिंड। आपने टीवी पर वो एड तो देखा ही होगा जिसमें बताया जाता है कि एमपी अजब है, सबसे गजब है, लेकिन हालिया कुछ घटनाओं पर गौर करें तो लगता है सच में एमपी अजब है। दरअसल यहां हाल ही में पुलिस आरक्षक भर्ती से पहले अभ्यार्थियों के सीने पर एससी-एसटी लिखने का मामला सामने आया था जिस पर काफी बवाल हुआ था। ये मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि आरक्षक भर्ती में मेडिकल टेस्ट के दौरान एक और बड़ी लापरवाही सामने आई है।

यहां लड़के और लड़की का मेडिकल चेकअप एक ही कमरे में किया गया। इसकी एक फोटो भी सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है जिसमें दो लड़के मेडिकल जांच के लिए जिला चिकित्सालय में अंडरवियर में खड़े हुए हैं और सामने एक लड़की है। हैरानी की बात यह है कि लड़कियों के मेडिकल टेस्ट के लिए कोई भी महिला चिकित्सक या नर्स नहीं हैं।

मीडिया में खबर आने के बाद लड़कों के लिए अलग और लड़कियों के लिए अलग मेडिकल चेकअप की सुविधा की गई। बताया जा रहा है कि मध्यप्रदेश की भिंड पुलिस लाइन में 217 महिला और पुरुष आरक्षकों की भर्ती की गई है। इनमें से 39 लड़के और लड़कियों का मेडिकल टेस्ट कराया गया है। सभी टेस्ट एक ही कमरे में कर दिए गए और लड़कियों के लिए कोई भी नर्स या महिला चिकित्सक नहीं थी।