आय से अधिक संपत्ति मामले में एआईडीएमकेकी महासचिव शशिकला नटराजन को सुप्रीम कोर्ट ने चार सालकी सजा सुनाई है. शशिकला को अब जेल जाना होगा. सुप्रीमकोर्ट के इस फैसले के बाद तमिलनाडु की राजनीति में उथलपुथल मच गई है, क्योंकि शशिकला अब छह साल तक चुनावनहीं लड़ पाएंगी. साथ ही 10 साल तक मुख्यमंत्री भी नहीं बनपाएंगी. इसके अलावा उन्हें एआईडीएमके महासचिव का पदभी छोड़ना पड़ेगा.

निचली अदालत में तुरंत करना होगा सरेंडर

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद शशिकला के पास अबपुनर्विचार याचिका दाखिल करने का ही विकल्प बचा है. सुप्रीमकोर्ट ने हाईकोर्ट के फैसले को खारिज कर दिया है और निचलीआदालत का फैसला बरकरार रखा है. निचली आदालत ने हीशशिकला को चार साल की सजा सुनाई थी. फैसले केमुताबिक, शशिकला के साथ ही बाकी दोषियों को भी जेल कीबाकी बची सजा काटनी होगी.

फैसले के बाद बाद अब शशिकला को निचली अदालत मेंसरेंडर करना होगा.  साथ ही शशिकला को 10 करोड़ काजुर्माना भी भरना होगा. क्योंकि शशिकला इस मामले में पहलेही करीब चार महीने की सजा काट चुकी है. ऐसे में उन्हें तीनसाल आठ महीने जेल में रहना होगा.

क्या कहा है सुप्रीम कोर्ट ने ?

सुप्रीम कोर्ट ने सीधे-सीधे कहा है कि हाईकोर्ट का जो फैसलाथा उसे हम खारिज कर रहे हैं और निचली अदालत के फैसलेको हम बरकरार रख रहे हैं. निचली अदालत ने शशिकला केअलावा उनके भतीजे सुधाकरन औऱ इलवर असी पर चार-चारसाल की सजा और दस-दस करोड़ का जुर्माना लगाया था. सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले के बाद अब तमिलनाडु में मुख्यमंत्रीपन्नीरसेल्वम से लड़ाई के बीच शशिकला का सीएम बनने कासपना फिलहाल टूट गया है.

वहीं, सुप्रीम कोर्ट ने जे जयललिता के पांच दिसंबर को हुएनिधन को ध्यान में रखते हुए उनके खिलाफ दायर सभीअपीलों पर कार्यवाही खत्म कर दी है.

शशिकला के खिलाफ केस क्या है?

ये मामला करीब 21 साल पुराना साल 1996 का है, जबजयललिता के खिलाफ आय से 66 करोड़ रुपये की ज्यादा कीसंपत्ति का केस दर्ज हुआ था. इस केस में जयललिता के साथशशिकला और उनके दो रिश्तेदारों को भी आरोपी बनाया गयाथा. शशिकला के खिलाफ ये केस निचली अदालतों से होते हुएसुप्रीम कोर्ट तक पहुंचा है.

सुप्रीम कोर्ट से पहले इस केस में क्या क्या फैसले आए थे-

27 सितंबर 2014 को बेंगलूरु की विशेष अदालत नेजयललिता को 4 साल की सजा सुनाई थी. इसके अलावाजयललिता पर 100 करोड़ रुपये का जुर्माना भी लगाया था. इस केस में ही शशिकला और उनके दो रिश्तेदारों को भी चारसाल की सजा सुनाई गई थी और 10-10 करोड़ का जुर्मानाभी लगाया गया था. फैसले के बाद चारों को जेल भी भेजा गयाथा. जिसके बाद विशेष अदालत के बाद मामला कर्नाटकहाईकोर्ट पहुंचा था.
11 मई 2015 को हाईकोर्ट ने कर दिया था बरी–

11 मई 2015 को हाईकोर्ट ने सबूतों के अभाव में चारों कोबरी कर दिया था. हाईकोर्ट से जयललिता और शशिकला कोबड़ी राहत तो मिली थी, लेकिन इसके बाद कर्नाटक कीसरकार जयललिता की विरोधी पार्टी डीएमके और बीजेपी केनेता सुब्रमण्यम स्वामी ने हाईकोर्ट के फैसले को सुप्रीम कोर्ट नेचुनौती दे दी.

कर्नाटक सरकार इस मामले में इसलिए पड़ी, क्योंकि 2002 मेंसुप्रीम कोर्ट ने केस को कर्नाटक हाईकोर्ट में ट्रांसफर कर दियाथा.

क्या है पनीरसेल्वम बनाम शशिकला विवाद 

बता दें कि इसी साल पांच फरवरी को पार्टी की बैठक मेंतमिलनाडु के सीएम ओ पनीरसेल्वम ने अपना इस्तीफाराज्यपाल को सौंप दिया था. AIADMK के विधायकों नेशशिकला को विधायक दल का नया नेता चुना था. पनीरसेल्वम के इस्तीफे के बाद शशिकला के सीएम बनने कारास्ता साफ हो गया था. खुद पनीरसेल्वम ने सीएम पद के लिएशशिकला के नाम की पेशकश की थी.

हालांकि बाद में पनीरसेल्वम ने बगावत कर दी और कहा किजबरन उनसे इस्तीफा लिया गया था. पनीरसेल्वम की तरफ सेबगावत के बाद पार्टी दो गुटों में बंट गई थी.

कौन हैं शशिकला 

शशिकला के हाथों ही जयललिता का अंतिम संस्कार हुआ था. 80 के दशक में शशिकला जयललिता के संपर्क में आईं थी. उस वक्त शशिकला वीडियो कंपनी चलाती थीं. शशिकला नेजयललिता की सभाओं के भी वीडियो बनाए और धीरे-धीरे वोजयललिता की बेहद करीबी दोस्त बन गईं. एक वक्त ऐसा भीथा कि जयललिता के हर फैसले के पीछे शशिकला का भीहाथ होता था.