मंदसौर.

दरिंदों ने सात वर्षीय बालिका के साथ एक घंटे तक दरिंदगी की। और उसके बाद उसका गला रेंतकर उसे मृत समझकर वहां से बाजार आ गए। और बाजार में आने के बाद दोनों ने मोबाइल बेचने का प्लान बनाया। उसके बाद पांच हजार रूपए में इरफान ने अपना मोबाइल बेचा। इसके बाद दो बीयर ली। और फिर दिल्ली दरबार दुकान से मुर्गा लिया और निकल गए। दोनों ने बीयर और मुर्गा खाया और बेफ्रिकी से घर चले गए। यह बात दोनों आरोपियों ने पुलिस की पूछताछ के दौरान बताई।

सीएसपी राकेश मोहन शुक्ला ने बताया कि आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि जंगल में बालिका को ५.४५ मिनट पर ले गए थे। वहां बालिका के साथ दुष्कर्म किया और उसे मृत समझकर वहां से पौने सात बजे निकल गए और बाजार आ गए। यहां पर पांच हजार रूपए मेंं मोबाइल बेचा और दो बीयर ली और मुर्गा भी लिया। इसके बाद खा-पीकर दोनों घर चले गए।

मुद्दामाल में चाकू और बाइक जप्त

सीएसपी शुक्ला ने बताया कि आरोपियों से बाइक, चाकू और खून से सने हुए कपड़े बरामद कर लिए है। पुलिस पूछताछ में इरफान ने बताया कि उसे आसिफ ने कहा था कि यदि मेरा नाम पुलिस को बताया तो तुझे जान से मार दूंगा। जिसके कारण वह आसिफ का नाम नहीं ले रहा था। जब इरफान से कड़ी पूछताछ हुई तो उसने आसिफ का नाम बताया।

दरिंदे को फाँसी दिलवाने के लिए वाहिनीं की बैठक

दलौदा के स्टेशन स्थित खेड़ापति हनुमान मंदिर पर राष्ट्रवादी युवा वाहिनी की शुक्रवार को बैठक संपन्न हुई। बैठक में मन्दसौर की घटना की कठोर निंदा की गई। राष्ट्रीय प्रभारी भरत पंड्या ने बताया कि आरोपी इरफान को फास्टट्रैक कोर्ट में मुकदमा चला कर फ ंासी होनी चाहिए। वाहिनीं ऐसे दरिंदों को सजा दिलवाने के लिए कटिबद्ध है। साथ ही पीडि़ता के शीघ्र स्वस्थ होने की कामना करते हुए भगवान की पूजा अर्चना की। बैठक में जिला प्रभारी नितिन सोनी, उज्जैन सम्भाग प्रभारी योगेश मकवाना, प्रदेश उपाध्यक्ष शिव दुबे,जीतू शर्मा, कालू शर्मा सहित युवा कार्यकर्ता उपस्थित थे।