ब्यूरो रिपोर्ट :

tरत के कपडा व्यापारी ने अपने व्यापार के 15वें सालगिरह को अनोखे अंदाज़ में मनाया । यूँ तो अक्सर देखा जाता है कि जब कोई व्यापारी आपसी सफलता का जश्न मनाता है तो उसमें बॉलीवुड सितारे या बड़ी सेलीब्रिटी आती है लेकिन सफलता के 15 वर्षों को व्यापारी ने देश के साहसी और गौरवान्वित करने वाले शहीदों के परिवार के साथ मनाया । साथ ही उरी हमले में शहीद हुए जवानों के परिवारों को आर्थिक सहायता भी प्रदान की ।

जम्मू-कश्मीर के उरी में 18 सितम्बर, 2016 को हुए आतंकी हमले में सेना के 19 जवान शहीद हो गये थे. इस हमले के बाद से भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव और ज्यादा बढ़ गया लेकिन इस दौरान काफी कम लोग हैं जो शहीदों के परिवार की सहायता के लिए आगे आये, उनके बारे में सोचा । लेकिन जब बात  की होती है तो यहाँ लोगो के हाथ अक्सर उन लोगो के साथ होते है जिनके लिए देश के लिए मर मिटने का जज़्बा सबसे अधिक होता है । ऐसा ही कुछ सुरत के कपडा व्यापारी विनोद अग्रवाल ने किया । उन्होंने अपने व्यापार के 15 वर्ष की सालगिरह पर शहीद के परिवारों को 10 लाख रुपयों से अधिक की आर्थिक सहायता की ।

रिंग रोड पर आए रीजेंट टेक्षटाइल मार्केट के एक कपडा व्यापारी अपने व्यापार के 15 वर्ष पूर्ण होने के उपलक्ष्य में उरी हमले में शहीद हुए जवानों के परिवार को आमंत्रित किया । विनोद अग्रवाल का कहना था कि हमारे लिए खुश का दिन है कि 15 साल हमारे व्यापार को हो गए है । जिसे हम किसी हीरो या सेलिब्रिटी के साथ मना सकते थे लेकिन हमने सोचा की जो हमारे असली हीरो है क्यों न उनके परिवार के साथ हम ये दिन मनाये। इस उद्देश्य के साथ आज हमने उन्हें बुलाया और सन्मानित किया है ।

वहीँ उरी हमले में हुए शहीद जवान राकेश सिंह की पत्नी किरण ने बताया कि जब लोग हमारा सन्मान करते है और मेरे शहीद पति को याद करते है तो हमें लगता है कि उनका शहादत गया  नहीं गया है । लोग हमें इतना सम्मान दिया जिसके बारे में सोचा नहीं था ।