एनआईए से मिले इनपुट के बाद गुजरात एटीएस ने आईएस के संदिग्धों को गिरफ्तार किया।

अहमदाबाद.गुजरात ATS ने दो सगे भाइयों को राजकोट और भावनगर से रविवार को अरेस्ट किया। आरोप है कि दोनों पिछले डेढ़ साल से आईएसआईएस के हैंडलर के कॉन्टैक्ट में थे। मीडिया रिपोेर्ट के मुताबिक, संदिग्धों के कब्जे से भारी मात्रा में गन पाउडर, बैटरी, टाइमर, बम बनाने का सामान और आतंकी संगठन का लिटरेचर भी बरामद हुआ। उनके कम्प्यूटर से इराक और सीरिया में चल रही आईएस की लड़ाई के वीडियो भी मिले हैं। बताया जा रहा है कि आरोपियों ने राजकोट और भावनगर में ब्लास्ट करने की प्लानिंग की थी। सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं संदिग्ध…

– उन्होंने वैलेन्टाइन डे पर भावनगर में ब्लास्ट की प्लानिंग की थी। लेकिन कड़ी सिक्युरिटी के चलते मकसद में कामयाब नहीं हो पाए।
– गुजरात में IS से जुड़ी यह पहली गिरफ्तारी है। दोनों से पूछताछ जारी है। ताकि पता लगाया जा सके कि देश के किन शहरों तक IS अपना नेटवर्क बढ़ा रहा है।
– एनआई पिछले 2 महीने से गुजरात में चल रही संदिग्ध एक्टीविटीज पर नजर रख रही थी। जिसके बाद संदिग्धों को पकड़ा गया।
– NIA ने पिछले साल यूपी से मुफ्ती अब्दुस कादरी को पकड़ा था। उससे भी दोनों भाइयों के कॉन्टैक्ट होने की बात सामने आई है।
– आईएस के जुड़े होने के शक में NIA पिछले साल हैदराबाद, केरल, कर्नाटक और महाराष्ट्र के अलग-अलग शहरों से कई लोगों को पकड़ चुकी है।
आतंकियों के चंगुल से छूटे डॉक्टर ने कहा- IS भारत के बारे में सब जानता है
– दूसरी ओर, आईएस के चंगुल से छूटकर देश लौटे डॉ. राममूर्ति कोसानम ने रविवार को कहा, ”आईएस आतंकी भारत के बारे में सब कुछ जानते हैं। सभी युवा आतंकी हैं और काफी पढ़े-लिखे हैं।”
– डाॅक्टर को करीब 18 महीने पहले लीबिया में इस्लामिक स्टेट के आतंकवादियों ने अगवा कर लिया था। वे आंध्र प्रदेश में कृष्णा जिले के रहने वाले हैं।
– डाॅ. कोसानम लीबिया के सिर्ते के एक हॉस्पिटल में फिजिशियन थे और 1999 से लीबिया में रह रहे थे।
– डॉक्टर ने आगे आपबीती सुनाते हुए कहा कि आतंकियों ने मुझे 3 गोलियां मारी थीं, लेकिन मैं बच गया था।
दाउद के गुर्गे भी हुए अरेस्ट
– गुजरात पुलिस ने राजकोट से ही शनिवार को अंडरवर्ल्ड डॉन दाउद इब्राहिम के 4 शूटरों को अरेस्ट किया।
– आरोप है कि उन्होंने 10 लाख रुपए में जामनगर के कारोबारी के मर्डर की सुपारी ली थी। उन्हें एक बस से पकड़ा गया।