सुरत : भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 2014 में लाल किले से भारत को स्वक्षता रखने के लिए सभी को कहा था । उसके बाद सभी जिले और कस्बे में लागू किया था । स्कूल से लेकर कॉलेज तक गांव से शहेर तक सफाई पर धयान देने के लिए पूरी तैयारी सुरु की गई थी । चार साल बीत जाने के बाद भी गांव को साफ करने के लिए गांव वाले नियम को अपनाते है । शहेर के गलियो और सोसाइटियों में शहेरवासी सफाई पर ध्यान दे रहे है ।

कमिश्नर कचेरी में गंदगी का ढेर
सुरत महानगर पालिका सेवा सदन कचेरी के कोर्ट कंपाउंड में लगाए गए पतरे पर कचरे का साम्राज्य बन चुका है । अधिकारी से लेकर नौकर तक चाय, नास्ता कर सीधे पतरे पर फेंक देते है । शहेर वासियो को कचरा पेटी रखने की बात करने वाले मनपा अधिकारी पहले खुद के कचेरी में डस्टबिन रखना सीखे उसके बाद किसी और उंगली उठाया तो श्याद आम जनता के लिए एक सीख साबित होगी ।

मनपा अधिकारियो के आफिस के बाहर गंदगी का ढेर

सुरत महानगर पालिका सेवा सदन मुगलिसरा मेन कचेरी के कोर्ट बिल्डिंग के कंपाउंड में लगाए गए पतरे पर गंदगी का साम्राज्य देखने को मिला, गुरुवार शाम 6 बजे की तस्वीर है, जहाँ पर खुद मनपा कमीशन,मेयर स्टैंडिंग कमेटी के अध्यक्ष, डिप्युटी मेयर, और भी कई अधिकारी बैठते है । लेकिन स्वक्षता की बात करे तो किसी भी अधिकारी की नजर वहाँ तक नही पहुचती है ।

गौरतलब है कि जिस सेवा सदन में आरोग्य के ऑफिसर भी बैठे हो उस कचेरी में गंदगी का ढेर पाया जाय तो शायद कोई भी इंसान सुन कर चौक जाएगा । इस पूरे मामले पर जब हमने मेयर से बात करने की कोशिश की तो उन्होंने फ़ोन ही काट दिया ।