जामनगर….
जामनगर के व्यापारी अशफाक खत्री की हत्या के लिए आए दाऊद गेंग के चार शार्पशूटर्स राजकोट की जिन होटलों में रुके थे, उनके सामने आज शिनाख्ती की जानी थी, इसके पहले ही पुलिस उन्हें लेकर नासिक के लिए रवाना हो गई। पुलिस जब इन्हें लेकर निकली, तब लॉकअप में रामदास ने राड से अपना सर टकरा दिया था।
शार्पशूटर्स से पूछताछ में यह खुलासा हुआ है कि इन्हें तीन लोगों ने मदद की थी। अभी यह साफ नहीं हो पाया है कि ये लोग स्थानीय हैं या बाहर के। वैसे स्थानीय लोगों ने मदद नहीं की है, इसकी पूरी संभावना है, इस आशय का विचार पुलिस अधिकारी हितेश गढ़वी ने व्यक्त किए हैं। शार्पशूटर रामदा और विनीत को लेकर पीआई गढ़वी, पीएसआई कनामिया और 27 जवानों का स्टाफ 4 दिनों तक मुम्बई और नासिक में डी गेंग के खिलाफ सबूत इकट्ठा करेगा।
२५ फरवरी को पकड़े गए थे शार्पशूटर
उल्लेखनीय है कि गत 25 फरवरी को क्राइम ब्रांच ने कुवाडवा के पास वॉच रखकर जामनगर के व्यापारी की हत्या के लिएआए दाऊद के भाई अनीस इब्राहीम के चार शार्पशूटर्स रामू रहाणे, विनीत जालटे, अनिल और संदीप को 9 एम.एम. की पिस्तौल और चाकू के साथ पकड़ लिया था। पिछले चार दिनों में चारों को साथ रखकर यह जांच की गई कि वे चारों राजकोट में कहां-कहां रुके थे। राजकोट के अलावा चोटिला हाइवे के पास की होटल ले जाकर क्राइम ब्रांच ने जानकारी प्राप्त की थी। इसके अलावा व्यापारी अशफाक खत्री की हत्या किस तरह से की जाती, इसका भी रिहर्सल कराया गया।