सुरत : मुख्य मंत्री विजय रुपाणी मंगलवार 2 अक्टूबर गांधी जयंती के दिन सुरत में तैयार किया गया राज्य का पहला स्टेइड केबल ब्रिज को हरी झंडी देंगे । आठवा और अड़ाजन इलाके को जोड़ने वाला ब्रिज 143.64 करोड़ रूपये खर्च से तैयार किया गया ” पंडित दिन दयाल उपाध्याय ” केबल ब्रिज का उद्धघाटन के साथ – साथ सुरत महानगर पालिका का 681.55 करोड़ से तैयार किया गया कई विकास काम का उद्धघाटन भी करेंगे । मुख्य मंत्री इसके अलावा संजीव कुमार ऑडिटोरियम में आयोजित समारोह में होने वाले लोकार्पित विविध प्रकार का उद्धघाटन करेंगे ।

मुख्य मंत्री केबल स्टेइड ब्रिज का उद्धघाटन करने के बाद ब्रिज के अंदाजन की और सिटी बस, फायर वाहनो तथा साधनों को फ्लैग ऑफ़, ब्रिज अड्डाजन की और से सांसद श्री मति दर्शनाबेन जरदोष की ग्रांट से दी हुई सब्वाहिनी को फ़्लैग ऑफ़ करेंगी ।

मुख्य मंत्री विजय रुपाणी आगामी 2 अक्टूबर गांधी जयंती के दिन सुरत वासियो को नया नजराना के जैसा केबल स्टेइड ब्रिज तथा करोडो के विकास के कामो का भेंट दिया जायेगा । 143.64 करोड़ के खर्च से किया गया निर्माण किये कामो का उद्धघाटन करेंगे । जिसमे ट्रैफिक सेल, द्वारा 80 करोड़ के खर्च से पहले चरण में 100 सिटी बस और दूसरे चरण में 200 सिटी बस की सेवा उपलब्धि का काम तथा ब्रिज सेल का 30.91 करोड़ के खर्च से सुरत – डुमस जाने जाने वाले रास्ते पर नवी कोर्ट का बिल्डिंग जंगशन पर फ्लाई ओवर ब्रिज का उद्धघाटन करेंगे । जब की कुल 533.83 करोड़ के खर्च से निर्माण किया गया विकास के कामो को सम्लित किया गया है । जिसमे सुडा अर्बन रिंग रोड डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन लिमिटेड द्वारा 179.31 करोड़ के।खर्च से प्रधान मंत्री आवास योजना के अंतर्गत इडब्लू यस – कटेगरी के 3868 आवास बनाने का काम ड्रेनेज विभाग द्वारा 32.75 करोड़ के खर्च से पर्वत गाँव के साइड में लिम्बायत ज़ोन ऑफिस के पास मीठीखाड़ी के ऊपर का ब्रिज को वेहिकुलर एप्रोच बनाने के लिए सम्लित किया गया है । तथा सभी जोन इलाको में 45.51 करोड़ के अन्य विशेष 10 कामो का उद्धघाटन और 37.16 करोड़ के खर्च से भूमि पूजन किया जायेगा ।

मुख्य मंत्री के साथ महसूल मंत्री श्री कौशिक भाई पटेल,आरोग्य राज्य मंत्री किशोर भाई कनानी, गुजरात म्युनिसिपल फाइनेंस बोर्ड के चेयरमेन श्री धनसुख भाई भंडेरी, मेयर श्री डॉक्टर जगदीश पटेल भी भाग लेंगे ।

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों से किया गया भरूच नर्मदा नदी पर केबल ब्रिज और सुरत का स्टेइड केबल ब्रिज के बीच काफी फर्क बताया गया है । खासकर भरूच नदी पर बना केबल ब्रिज वनवे है – जब की सुरत का ब्रिज टू – वे है । भरूच ब्रिज में केबल पर 40 प्रतिशत लोड और स्ट्रक्चर पर 60 प्रतिशत लोड होता है । और एक्स्ट्रा डोज केबल स्टेइड ब्रिज के तौर पर भी जाना जाता है । सुरत का यह ब्रिज का पूरा भार केबल पर निर्भर है । जिससे तापी नदी पर यह स्टेइड केबल ब्रिज पुरे राज्य में एक अलग पहचान बनायेगा । इसी प्रकार का ब्रिज भावनगर शहेर में बनाया गया था । लेकिन कुछ समय के बाद उसे बंद कर दिया गया था । आने वाले दिन में तापी पर बने स्टेइड केबल ब्रिज सुरत वाशियो के लिए गौरव की बात होगी ।

चारलेन का यह ब्रिज का लोड टेस्टिंग सहित फ़ाइनल टचिंग कामगिरी पूरा हो चुका है । तापी नदी पर अड्डाजन स्टार बाजार