न्यू दिल्ली : राहुल गांधी ने कहा कि प्नधानमंत्री जानते हैं कि अगर राफेल की जांच शुरू हो जाएगी तो वह खत्म हो जाएंगे और यहीं उनकी घबराहट है.

राफेल डील को लेकर प्रधानमंत्री मोदी पर हमलावर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बुधवार को फिर एक बार उन्हें निशाना बनाया. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि केंद्र सरकार ने राफेल डील की जांच के डर से सीबीआई डायरेक्टर आलोक वर्मा को रात के दो बजे छुट्टी पर भेज दिया है.

छुट्टी पर भेजने के बावजूद डायरेक्टर बने रहेंगे आलोक वर्मा, नागेश्वर राव को जिम्मा जांच तक: CBI

कांग्रेस के दफ्तर में गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए राहुल गांधी ने ये बातें कही. उन्होंने कहा, ‘सीबीआई चीफ को हटाने का काम तीन लोगों की कमिटी करती है. इसमें पीएम, नेता प्रतिपक्ष और चीफ जस्टिस शामिल हैं. लेकिन प्रधानमंत्री ने सीबीआई डायरेक्टर को रात 2 बजे अकेले हटाया दिया, जो असंवैधानिक और गैरकानूनी है.’

सीबीआई में मचे घमासान को लेकर राहुल गांधी ने पीएम मोदी उनकी सरकार पर कई हमले किए:-

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा, ‘सीबीआई राफेल डील में प्रधानमंत्री की भूमिका और कथित भ्रष्टाचार की जांच करने जा रही थी, इसीलिए रात 2 बजे सीबीआई डायरेक्टर को प्रधानमंत्री ने निकाल दिया. अगर राफेल में जांच हो गई तो दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा. देश को पता चल जाएगा कि प्रधानमंत्री ने भ्रष्टाचार के जरिए अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाया.’

राहुल गांधी ने कहा, ‘रात के 2 बजे सीबीआई के कमरे को सील किया गया, जो दस्तावेज थे उन्हें कब्जे में ले लिया गया. राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि पीएम मोदी सबकी जासूसी करते हैं.

कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ‘आम तौर पर सरकार कुछ खरीदती है तो टेंडर होता है, राफेल मामले में टेंडर हुआ दसॉ को काम मिला, लेकिन प्रधानमंत्री फ्रांस गए और टेंडर रद्द कर दूसरी डील कर आए.’

राहुल ने कहा कि यह ओपन एंड शट केस है, प्रधानमंत्री अनुभवी आदमी हैं वो जानते हैं कि यदि सीबीआई जांच करेगी तो वो बच नहीं पाएंगे. इसलिए राफेल मामले में सीबीआई से जांच कराना आत्महत्या करने समान होता, इसलिए प्रधानमंत्री ने सीबीआई की हत्या कर दी.

ये भी पढ़ें: इन 7 खास हाईप्रोफाइल केस के साथ जुड़े थे CBI चीफ आलोक वर्मा, ये है पूरी रिपोर्ट
राहुल ने आरोप लगाते हुए कहा कहा कि प्रधानमंत्री ने ऐसे अधिकारी को सीबीआई की कमान दी है जिसे वे आसानी से कंट्रोल कर सकते हैं.

वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा सीवीसी की सलाह पर सीबीआई में की गई कार्रवाई के सवाल पर राहुल गांधी ने कहा कि वित्त मंत्री पहले अपनी बेटी और मेहुल चोकसी के बारे में बताएं.

सीबीआई ने दिया ये जवाब
बता दें कि सीबीआई इससे पहले इन आरोपों का जवाब दे चुकी हैं कि आलोक वर्मा राफेल डील की जांच कर रहे थे. सीबीआई प्रवक्‍ता ने कहा कि निजी फायदों के चलते झूठी मीडिया रिपोर्ट तैयार की जा रही है. उन्‍होंने कहा कि सीबीआई में प्रत्‍येक स्‍तर पर फाइलों/दस्‍तावेजों का लेखा-जोखा रहता है.प्रवक्‍ता ने साफ कर दिया कि आलोक वर्मा सीबीआई डायरेक्‍टर और राकेश अस्‍थाना स्‍पेशल डायरेक्‍टर के पद पर रहेंगे. एम. नागेश्वर राव को सिर्फ जांच तक जिम्मेदारी सौंपी गई है.

पूरी खबर आलोक वर्मा के राफेल डील की जांच करने की बात मनगढ़ंत और गलत: सीबीआई

राव की नियुक्ति को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती
उधर, एनजीओ कॉमन कॉज ने सुप्रीम कोर्ट में सीबीआई निदेशक को छुट्टी पर भेजे जाने और एम नागेश्वर राव को अंतरिम डायरेक्टर बनाने को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. एनजीओ की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल करने वाले सीनियर एडवोकेट प्रशांत भूषण ने कहा कि राव पर भी भ्रष्टाचार के गंभीर मामले हैं. लिहाजा उन्हें सीबीआई का अंतरिम चीफ नहीं बनाया जाना चाहिए.

सम्बंधित खबरें
राकेश अस्थाना की जांच कर रहे CBI अधिकारी पहुंचे SC, कहा- रिश्वत लेने के हैं सबूत

राकेश अस्थाना की जांच कर रहे CBI अधिकारी पहुंचे SC, कहा- रिश्वत लेने के हैं सबूत
मोइन कुरैशी मामले में आरोपी सतीश साना ने सुप्रीम कोर्ट में की गिरफ्तारी के खिलाफ सुरक्षा की अपील

मोइन कुरैशी मामले में आरोपी सतीश साना ने सुप्रीम कोर्ट में की गिरफ्तारी के खिलाफ सुरक्षा की अपील
कांग्रेस का आरोप, सरकार और सीवीसी ने मिलकर की सीबीआई प्रमुख पर कार्रवाई

कांग्रेस का आरोप, सरकार और सीवीसी ने मिलकर की सीबीआई प्रमुख पर कार्रवाई
CBI मामले में सुप्रीम कोर्ट के आदेश को केंद्र के निर्णय पर मुहर मान रही है सरकार