सुरत : गुजरात में नया साल यनि की पाठकड़ा फोड़ने का कुछ अलग ही अंदाज है । दिवाली से एक दिन पहले और नए साल के पांच दिन के बाद तक पाठकड़ो की आवाज सुनाई देती है । अर्थात गुजरात एक ऐसा राज्य है जहाँ पर दीपावली के बाद नया साल सुरु हो जाता है ।

करोडो के फटाकड़े हो जाते है फुर्र

गुजरात में दीपावली से लेकर लाभ पांचम तक सुरतियो का बोलबाला होता है । मिठाइयो से लेकर जलेबी तक घर में घर दिखाई देती है। दीपावली का तेव्हार के दिन घर के बहार दियो की झलक दिखाई देती है । उसके बाद नए साल पर एक दूसरे के आशिर्बाद के लिए अपने अपनों के।यहाँ पर जाकर नए साल की बधाई देते है ।

जीएसटी के बाद गुजरात में फूटा करोड़ो का फटाकड़ा

एक तरफ लोगो को जीएसटी और नोट बंदी का असर सता रहा है । वही दूसरी और दीपावली के तेव्हार पर करोडो की मिठाई और सोने चांदी की खरीदी जोरो से की गई । उसके बाद नए साल पर जनता खुशियों को बाटने के लिए करोडो का फटाका फोड़ दिया । गुजरात का यह फार्मोला अब तक किसी के समझ में नहीं आया था ।