PATNA : महाराष्ट्र से भारतीय जनता पार्टी के एमएलसी ने कहा है कि बिहार के लोग महाराष्ट्र में काम कर रहे हैं और वहां उनकी बीवियों को बच्चे पैदा हो जाते हैं। धस ने कहा, बिहार का आदमी महाराष्ट्र में मिठाई बांट रहा होता है कि गांव में उसको बच्चा हुआ है जबकि वो सालों से गांव गया ही नहीं होता है। धस के इस बयान को बिहार के नेताओं ने बेहद शर्मनाक बताया है। वहीं महाराष्ट्र में भी उनके इस बयान की आलोचना हो रही है।

धस के बयान को बिहार के लोगों की गरिमा को ठेस पहुंचाने वाला बताते हुए उत्तर भारतीय पंचायत ने विधायक को जूते-चप्पल से मारने वालों को ग्यारह हजार रुपए इनाम देने की घोषणा की है। पंचायत ने भाजपा से मांग की है कि वो धस के खिलाफ कार्रवाई करे।

बिहार की सत्ताधारी और भाजपा की सहयोगी जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) के प्रवक्ता राजीव रंजन ने इस बयान को बिहार की अस्मिता को आहत करने वाला बताते हुए कहा है कि यह धस की खराब मानसिकता को जाहिर करता है। रंजन ने कहा कि ये 11 करोड़ बिहारियों का अपमान बताया है।
बिहार बीजेपी ने भी अपनी पार्टी के नेता के इस बयान की निंदा की है। बिहार के भाजपा नेताओं ने बयान को समाज को अपमानजनक बताते हुए पार्टी आलाकमान से सुरेश के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।

बिहार में विपक्षी राष्ट्रीय जनता दल ने सुरेश धस के बयान पर कड़ा एतराज जतया है। पार्टी ने धस की टिप्पणी को शर्मनाक बताया है। राजद विधायक रामानुज प्रसाद ने कहा है कि ऐसी टिप्पणी ना सिर्फ महिलाओं के लिए बल्कि पूरे बिहार के लोगों को आहत करने के लिए है। उन्होंने इसे भाजपा के नेताओं की सोच बताया है