डेस्क : शादी से पहले ही 10 जनपथ को दिल्ली पुलिस और एसपीजी के सुरक्षाकर्मियों ने घेर रखा था। शादी के बाद चूंकि रॉबर्ट वॉड्रा 10 जनपथ में (घर जमाई बनकर) नहीं रहना चाहते थे, इसलिए नव दंपति के लिए हाई सिक्योरिटी जोन में स्थित 35 लोदी एस्टेट को सजाया गया था।

प्रियंका गांधी और रॉबर्ट वाड्रा की शादी की 22वीं सालगिरह से करीब महीने भर पहले कांग्रेस ने प्रियंका गांधी को महासचिव बनाया है। वो पूर्वी यूपी की प्रभारी होंगी। कांग्रेस अध्यक्ष की तरफ से कहा गया है कि फरवरी के पहले हफ्ते में प्रियंका कामकाज संभाल लेंगी। उन्हें नई जिम्मेदारी मिलने पर उनके पति रॉबर्ट वाड्रा ने भी खुशी जताई है और फेसबुक पर लिखा है कि वो हमेशा उनके साथ हैं। बता दें कि प्रियंका-रॉबर्ट वाड्रा की शादी 18 फरवरी, 1997 को नई दिल्ली में सोनिया गांधी के आधिकारिक आवास 10 जनपथ पर बहुत ही सादे समारोह में हुई थी। उनमें बहुत कम मेहमानों को बुलाया गया था। जिन राजनीतिक हस्तियों को प्रियंका और रॉबर्ट वाड्रा की शादी का न्योता मिला था उनमें तत्कालीन राष्ट्रपति शंकर दयाल शर्मा, तत्कालीन उप राष्ट्रपति के आर नारायणन, तत्कालीन प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा और तत्कालीन कांग्रेस अध्यक्ष सीताराम केसरी शामिल थे। इंडिया टुडे के मुताबिक इनके अलावा पारिवार और मित्रों में से करीब 150 लोगों को निमंत्रण दिया गया था। मेहमानों की मंडली में अलग-अलग संस्कृतियों की झलक देखने को मिली थी। लिहाजा, खाना भी मल्टी कल्चरल यानी यूरोपियन, इंडियन और कश्मीरी पंडितों के हिसाब से तैयार कराया गया था।

शादी से पहले ही 10 जनपथ को दिल्ली पुलिस और एसपीजी के सुरक्षाकर्मियों ने घेर रखा था। शादी के बाद चूंकि रॉबर्ट वॉड्रा 10 जनपथ में (घर जमाई बनकर) नहीं रहना चाहते थे, इसलिए नव दंपति के लिए हाई सिक्योरिटी जोन में स्थित 35 लोदी एस्टेट को सजाया गया था। यह बंगला लुटियन जोन में प्रोटोटाइप VI कैटगरी का बंगला था जिसके आसपास सचिव रैंक के अधिकारी, मेजर जनरल या कद्दावर सांसद रहते थे। लंबे बरामदा और लाउंज वाले इस बंगले को रातों-रात लोक निर्माण विभाग द्वारा एसपीजी की निगरानी में तैयार कराया गया था। इस बंगले में दो अलग-अलग बड़े बेडरूम हैं, जिनमें चिमनियां और बाथरूम अटैच्ड हैं। बंगले में पीछे की तरफ चार सर्वेंट क्वार्टर भी हैं ।

प्रियंका गांधी जब इस बंगले में पति रॉबर्ट वाड्रा के साथ रहने आईं तब उनके साथ सुरक्षा कारणों से एसपीजी के 12 जवान भी यहां तैनात किए गए थे। घर के बाहर अक्सर ये जवान प्रियंका को घेरे रहते थे। बता दें कि प्रियंका को फोटोग्राफी, कुकिंग, और पढ़ना खासा पसंद है। उन्हें बच्चों से खासा लगाव है। वो अपने बच्चों के लिए खाना खुद पकाती हैं। बुधवार (23 जनवरी) को कांग्रेस ने उन्हें महासचिव बनाया है और पूर्वी उत्तर प्रदेश का प्रभारी नियुक्त किया है। माना जा रहा है कि प्रियंका के सक्रिय राजनीति में उतरने से कांग्रेस की स्थिति बेहतर होगी।