गुजरात नोनस्टॉप ( सुरेश विश्वकर्मा)

सुरत शहेर में पुछले कई महीनों से लगातार रिश्वतखोरी में लिप्त भाजपा के कई नगर सेवक पुलिस के सिंकंजे में फंस चुके है । शहेर गोडादरा बोर्ड नंबर 25 की भाजपा की महिला नगर सेवक ने एक अवैध निर्माण को करने के लिए 5 लाख की रिश्वत को अंजाम दिया था । जिसमे भाजपा के नगर सेविका मीना बेन राठौड़ और उसका पति भी शामिल था । फिर हाल दोनो को रिश्वतखोरी की गुनाह में गिरफ्तार किया जा चुका है ।

दरअसल रिश्वतखोरी की भूंख ने सब को अंधा कर दिया है । शहेर के मुगलिसरा बोर्ड नंबर 11 की नगर सेविका पति और पिता ने मिलकर एक बिल्डर से रिश्वत की मांग की जिससे बिल्डर ने उसके पति और पिता को रंगे हाथ रिश्वत लेते गिरफ्तार किया था । उसके पुलिस की जांच के बाद नेंसी को भी गिरफ्तार किया गया था ।

जब एक बार फिर भाजपा के प्रख्यात नगर सेवक जयंतीलाल डायालाल भंडारी जो कि बी/402 गंगा रेसीडेंसी कोजवे चार रास्ता सिंघनपुर के निवासी है और वही पर आज एन्टी करप्शन की टीम ने 50 हजार की रिश्वत लेते उन्हें गिरफ्तार किया गया था ।

भाजपा के नगर सेवक को क्यों माँगना पड़ा था रिश्वत

दरसअल एक शिकायत कर्ता के मुताबिक एक डॉक्टर ने अपने प्लाट पर एक क्लिनिक का निर्माण करना था । जिसके लिए नगर सेवक ने उस निर्माण को बचाने और उसे बनवाने के लिए 50 हजार की डिमांड की थी । लेकिन जीएसटी की मार सह रहे सूरत की जनता बड़ी रकम होने के चलते वह देने से इनकार कर दिया, भाजपा नगर सेवक जयंतीलाल भांडेरी ने डॉक्टर को धमकी देने की बाद वह एन्टी करप्शन ब्यूरो को संपर्क किया और भाजपा नजर सेवक के खिलाफ रिश्वत का मामला दर्ज करवा ।

एन्टी करप्शन के जाल में कैसे फंस गया भाजपा का प्रख्यात नगर सेवक

सुरत शहेर में 29 बोर्ड बनाए गए है जहां पर हर बोर्ड में 4 नगर सेवक को रखा गया है । शहेर की आम जनता की परेशानी और शहेर के विकास की जानकारी देने के लिए नगर सेवक की निमणुक किया जाता है । लेकिन सेवा तो दूर की बात भाजपा के नगर सेवक हमेशा शहेर में अवैध निर्माण के पीछे लगे रहते है । जिसका खामियाजा भाजपा सरकार को उठाना पड़ रहा है । एक तरफ केंद्र की सरकार जी जोड़ से रिश्वतखोरी पर लगाम लगाने के लिए कई तरह की टीम गठित किया गया वही सुरत शहेर में 1 साल के भीतर 4 भाजपा नगर सेवक रिश्वतखोरी के सिंकंजे में फंस चुके है ।