बंधे थे मासूम भाइयों के हाथ-फूल गई थी बॉडी 11 दिन तक प्लान बनाती रह गई पुलिस

सतना : यहां से 12 फरवरी को अगवा किए गए दो जुड़वां बच्चों श्रेयांश और प्रियांशकी शनिवार को हत्या कर दी गई। दोनों के शव उत्तरप्रदेश के बांदा में नदी के पास मिले। बताया जा रहा है कि अपहरणकर्ताओं ने 20 लाख की फिरौती मिलने के बाद भी बच्चों की हत्या कर दी।

दोनों बच्चों की उम्र 5 साल थी। वे छुट्टी के बाद चित्रकूट के स्कूल से सतना वापस आ रहे थे। उस दौरान बदमाशों ने स्कूल बस से अगवा कर लिया। पूरी वारदात बस में लगे सीसीटीवी में रिकॉर्ड हुई थी। फुटेज में बदमाश रिवॉल्वर दिखाकर बच्चों का अपहरण करते नजर आए थे। पुलिस के मुताबिक- बदमाशों ने पहले बंदूक दिखाकर बस को रुकवाया और फिर दोनों बच्चों को बस से उठाकर ले गए। बच्चे चित्रकूट के सद्गुरु ट्रस्ट के एसपीएस स्कूल में पढ़ते थे।

पुलिस ने 50 हजार का इनाम देने का ऐलान किया था

घटना के अगले ही दिन पुलिस ने आरोपियों का सुराग देने वाले को 50 हजार का इनाम देने का ऐलान किया था। इस मामले में कुछ संदिग्धों को हिरासत में लिया गया है।
बच्चों को बाइक पर बैठाकर फरार हुए थे

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, बदमाशों ने पहले बस रुकवाई फिर हथियार लहराते हुए एक नकाबपोश बस में चढ़ा और दोनों बच्चों को उठाकर ले गया। बाद में बाइक में बच्चों को बैठाकर बदमाश भाग गए। वारदात के दौरान बस में अन्य बच्चे, चालक और कंडक्टर भी थे। लेकिन, बदमाशों के पास हथियार होने के चलते किसी ने भी घटना का विरोध नहीं किया।

बिज़नेसमैन हैं पिता

बच्चों के पिता का नाम बृजेश रावत है। वह तेल व्यवसायी हैं। पुलिस ने बच्चों की तलाश के लिए टीमें गठित की थीं। यह भी कहा था कि जिस तरह घटना को अंजाम दिया गया, उससे यह तय है कि बदमाश दोनों बच्चों को अच्छी तरह से पहचानते थे।