सूरत : मार्च 2008 में पारदेश्वर महादेव की विशाल शिवलिंग की स्थापना की गई । पावनकारी सूर्यपुत्री तापी तट पर भौतिक एवं आध्यात्मिक समृद्ध सूरत नदी के किनारे अटल आश्रम विश्व का एक मात्र पारद शिवलिंग है, जिसकी भक्ति करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है ।

शास्त्रों के अनुसार पारद शिवलिंग के दर्शन मात्र से बारह जोतिलिंग का दर्शन का लाभ मिल जाता है । यही कारण है कि यहाँ साल भर भक्तो का तांता लगा रहता है । सौराष्ट्र के समर्थ महंत गुरु श्री महादेव गिरी की प्रेणना तथा आशिर्बाद से अटल आश्रम के महंत बटुक गिरी जी महाराज ने 1751 किलो के पारद शिवलिंग की स्थापना की । मार्च 2008 में परेश्वर महादेव की विशाल शिवलिंग की अस्थापना की गई । इस अवसर पर देश भर से आये विध्यवान,ब्राम्हण द्वारा पांच दिवसीय प्राण प्रतिष्ठा का आयोजन किया गया

मार्च 2019 में महाशिवरात्रि के दिन विश्वकर्मा यज्ञ का आयोजन किया गया है जहां पर बडे पैमाने पर लोग शामिल होने के लिए आते है । इसके अलावा उपास रखने वाले भक्तों के लिए फरहार और ठंढाई की वेवस्था भी किया गया है ।

सुबह से लेकर शाम 10 बजे तक आश्रम में भक्तो का तांता लगा रहता है बटुक गिरी महाराज ने बताया कि जिस तरह से आतंकियो ने हमारे सैनिको को निशाना बनाया गया । जिसमे 40 से जाएदा सैनिक शाहिद हुए है उनके परिवार के लिए आज एक अलग तरीके फंड इकठा कर उनके परिवार वालो को मदद के रूप में दिया जाएगा ।