सूरत : शहेर के उधना इलाके में बेधड़क शारब के अड्डे चल रहे है, जिससे यह साबित होता कि गुजरात नाश बंदी का असर बिल्कुल दिखाई नही दे रहा है । दरअसल हम बात कर रहे उधना इलाके के भीम नागर आवास की जहाँ पर दो साल पहले गरीब बस्तियों को तोड़कर आवास का निर्माण किया गया । जहाँ पर हजारो की सांख्य में लोग रह रहे है । पॉपुलेशन को देखते हुए राज्य सरकार ने वही आवास में स्कूल का निर्माण किया । जिससे बच्चो को भविष्य अंधेरे ने गुजरे, अर्थात बच्चों का भविष्य बनाने के लिए स्कूल का निर्माण करके शिक्षा देना सुरु किया।

– आवास में सरकारी स्कूल के बच्चो पर नशेड़ियों का असर

– गौरतलब है कि गुजरात राज्य में विजय रुपाणी की सरकार आने के बाद शाराब पाबंदी लगाने के लिए कानून में बदलाव किया गया । जिससे शाराब माफियाओ को सजा हो सके और शारब पर अंकुश लगाया जा सके । लेकिन अंकुश लगाना तो दूर की बात यहाँ तो खुले आम शाराब की बिक्री हो रही है ।

– उधना पुलिस स्टेशन की हद में लाखो का शारब की तस्करी की जा रही है, दमन, वापी,भुसावल, से ट्रेन माध्यम से शराब माफिया शराब को शहेर में सप्लाय कर रहे है । डीजीपी की स्पेशल स्टेट विजिलेंस अधिकारी की नजर होने के वाजूद भी खुले आम शराब की बिक्री हो रही है । उधना थानेदार कब करेंगे कार्यवाही, जिससे आवास में रह रहे बच्चो का जीवन उज्जवल बन सके ।