सामूहिक दुष्कर्म के आरोप में 5 आरोपियों को अरेस्ट किया गया है।

दाहोद।शराब के अवैध कारोबार की शिकायत करने वाले एक शख्स की दो नाबालिग बेटियों से छह लोगों ने पिता के सामने ही चलती कार में सामूहिक दुष्कर्म किया। मामले का पता चलने पर ग्रामीणों ने आरोपियों का पीछा किया। इसके बाद वे दस किलोमीटर दूर जाकर पीड़ित लड़कियों को सड़क पर फेंककर फरार हो गए।
11 लोगों के खिलाफ मामला दर्ज…
महिला सरपंच का पति
आरोपी कामता बारिया की पत्नी सुमित्रा फांगिया गांव की सरपंच है। दिसंबर-2016 में हुए चुनाव में पहली बार चुनावी राजनीति में उतरी थी 186 वोट से चुनाव जीती थी।
पीड़िता की आपबीती
सामूहिक दुष्कर्म की शिकार पीड़िता ने रोते हुए रुंधे गले से बताया कि मुझे मेरी छोटी बहन और पिता जी के साथ गाड़ी में डाल दिया। पिता पर बंदूक की नली लगा दी। मेरे और मेरी बहन के कपड़े फाड़ दिए। उसके बाद हम दोनों बहनों का रेप किया गया। हमें बहुत ही पीड़ा हो रही थी। मेरी बहन तो बेहोश हो गई थी। मुझे थोड़ा होश था, तभी मैंने जाना कि गांव वाले उस गाड़ी का पीछा कर रहे हैं। तो हम तीनों को चलती गाड़ी से फेंक दिया और वे भाग गए। इसके बाद हमें अस्पताल ले जाया गया। मेरी बहन के पेट पर सूजन आ गई है। रात को एक साथ तीन बोतल चढ़ाने के बाद उसकी सूजन उतरी है। सुबह उसे थोड़ा होश आया। अभी भी वह अर्ध बेहोशी की हालत में है। हमारे साथ बहुत ही बुरा हुआ है। हमारा जीवन बरबाद कर दिया गया है। उन्हें जीवनभर की जेल होनी चाहिए।