सूरत में गांजा के लिए कुख्यात उत्कल नगर झोपड़ियो में सोमवार देर शाम के बाद पुलिस ने कॉम्बिंग शुरू किया था । बड़ी संख्या में पुलिस के  काफिले ने 15 घंटो तक इस इलाके में कॉम्बिंग की और 265 किलो गांजा और विदेशी शराब के साथ पुलिस ने ४ लोगो को गिरफ्तार किया।
सुमूल डेरी रोड के रेल्वे ट्रेक से सटे उत्कल नगर झोपड़पट्टी में सोमवार पुलिस ने कॉम्बिंग शुरू किया था जो मंगलवार सुबह तक चला। आजतक के सूरत के इतिहास में पहली बार सूरत पुलिस द्वारा इस तरह का कॉम्बिंग ऑपरेशन उत्कल नगर और उसे सटे अशोक नगर में चलाया गया । उत्कल नगर सूरत का एक ऐसा इलाका है जहां सभी तरह के अवैध धंधे चलते है । खासकर उत्कल नगर उड़ीसा से सूरत में आकर रह रहे लोग शराब की भठ्ठी, गांजा ,और विदेशी सराब का कारोबार करते है । उनका इतना खोफ है की एकल दोकल पुलिस भी वहां रैड करने नहीं जाती है ।  सोमवार देर शाम सूरत के वराछा और पूणा पुलिस थाने के पुलिस इंस्पेक्टर और उनकी टीम, और स्टेट रिज़र्व फ़ोर्स के 100 जवानों के द्वारा छापा मारने से उत्कल नगर झुग्गियों में भगदड़ मच गयी । पुलिस के छापे के दौरान कई झोपडी में लावारीस हालत में गांजा के साथ शराब मिली ।
पुलिस के लगातार 15  घंटे की छापेमारी के बाद पुलिस को 265 किलो गांजा,  बीअर और शराब की बोटल मिलाकर 15 लाख 55 हजार के मुद्दामाल के साथ 4 लोगो को गिरफ्तार कर लिया है।  पकड़े गए कालूचरण उर्फ़ कालिया बिपिन बदतिया, सागर बालकृष्ण त्रिनाथ पांडी , बालकिशोर भँजकिशोर पन्डा , जो ओरिस्सा के गंजाम जिले के रहने वाले है  और अतुल सोलंकी सूरत का रहने वाला है । पुलिस ने सभी पर एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है ।
उत्कल नगर गाँजा के लिए पुरे सूरत में कुख्यात है और कई बार पुलिस द्वारा छापेमारी की गई है , फीर भी बिक्री बंध नही होती । पुलिश आज चारों  आरोपियों को कोर्ट में पेश कर रिमांड मांगेगी और यह गांजा शराब का जथ्था कहा से लाया, कौन उड़ीसा से सूरत तक गांजा भेजता है उसकी तफ्तीश करेगि।